Current Affairs Hindi

व्यापारियों और स्वरोजगार करने वालों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना क्या है? National Pension Scheme

पेंशन योजना 18 से 40 वर्ष की आयु वालों के लिए एक स्वैच्छिक और अंशदायी योजना है।

व्यापारी और स्व-रोजगार व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना रांची, झारखंड में 12 सितम्बर 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई । पेंशन योजना उन दुकानदारों और खुदरा व्यापारियों और स्व-नियोजित व्यक्तियों के लिए है, जिनका सालाना कारोबार 1.5 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

पात्र दुकानदार और खुदरा व्यापारी देश भर में 3.50 लाख कॉमन सर्विस सेंटर (CSCs) के माध्यम से इस योजना के तहत अपना नामांकन कर सकेंगे। वे योजना के तहत नामांकित होने के लिए अपने निकटतम सीएससी केन्द्र का दौरा कर सकते हैं। योजना के ऑनलाइन पोर्टल – http://www.maandhan.in/vyapari पर जाकर भी लाभार्थी स्वयं नामांकन कर सकेंगे ।

नामांकन प्रक्रिया: मुख्य विवरण

  1. दस्तावेज़: लाभार्थी को एक आधार कार्ड और एक बचत बैंक या जन-धन खाता पासबुक ले जाना आवश्यक होगा ।
  2. आयु सीमा: लाभार्थी की आयु 18-40 वर्ष के भीतर होनी चाहिए ।
  3. जीएसटीआईएन: जीएसटीआईएन केवल उन लोगों के लिए आवश्यक है जिनके टर्नओवर रु 40 लाख  से अधिक है।
  4. नि: शुल्क प्रवेश: इस योजना के तहत नामांकन होगा नि: शुल्क लाभार्थियों के लिए।
  5. स्व-प्रमाणन: नामांकन स्व-प्रमाणन पर आधारित है ।

व्यापारियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना: यह क्या है?

  • पेंशन योजना 18 से 40 वर्ष की आयु वालों के लिए एक स्वैच्छिक और अंशदायी योजना है ।
  • योजना के तहत न्यूनतम सुनिश्चित पेंशन 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर 3,000 रुपये मासिक पेंशन होगी ।
  • लाभार्थी आयकरदाता नहीं होना चाहिए और ईपीएफओ / ईएसआईसी / एनपीएस (सरकार) / पीएम-एसवाईएम का सदस्य भी नहीं होना चाहिए ।
  • जबकि मासिक योगदान का 50 प्रतिशत हिस्सा केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा, शेष 50 प्रतिशत अंशदान लाभार्थी द्वारा किया जाएगा।
  • मासिक योगदान कम रखा गया है क्योकि इसे किफायती बनाया जा सके। लाभार्थी को 29 वर्ष की औसत आयु में न्यूनतम 100 रु प्रति माह का योगदान देना होगा।
READ  इलेक्ट्रोस्टैटिक कीटाणुशोधन की CSIR तकनीक व्यावसायीकरण के लिए हस्तांतरित

पृष्ठभूमि

केंद्र सरकार ने व्यापारियों और स्व-नियोजित व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना को दुकानदारों, खुदरा व्यापारियों और स्व-नियोजित व्यक्तियों के उल्लेखनीय योगदान को स्वीकार करने के लिए मंजूरी दे दी है।

भारत भर में लगभग 3 करोड़ खुदरा विक्रेताओं को नई पेंशन योजना से लाभ होने की उम्मीद है। इस योजना का लक्ष्य 2019-20 में 25 लाख ग्राहकों और 2023-2024 तक 2 करोड़ ग्राहकों का नामांकन करना होगा। यह पेंशन योजना मोदी सरकार 2.0 की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है।

DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment