Current Affairs Hindi

भारत में पहली बार मेथेनोट्रोफिक बैक्टीरिया कल्चर बनाया

पुणे के अघारकर रिसर्च इंस्टीट्यूट ने मेथोट्रोफिक बैक्टीरिया के 45 उपभेदों को अलग-थलग कर दिया है। ये बैक्टीरिया चावल के पौधों में मीथेन उत्सर्जन को कम करने में सक्षम हैं।

मुख्य बिंदु 

उपभेदों को वर्गीकरण करने के अलावा वैज्ञानिकों ने मेथेनोट्रोफिक कल्चर भी बनाया है। इक्का-दुक्का बैक्टीरिया दक्षिणी और पश्चिमी भारत के थे।

मेठानोट्रोप्स क्या हैं?

मेथानोट्रोप्स पर्यावरणीय जीव हैं जिनकी मीथेन की साइकिल चलाने में प्रमुख भूमिका होती है। ये पर्यावरण में मीथेन का ऑक्सीकरण करते हैं। मेथेनोट्रोफिक बैक्टीरिया एनारोबिक मेटाबोलिज्म के जरिए मीथेन को ऑक्सीकरण करते हैं। मेथानोट्रोप्स का उपयोग जैव-इनोक्यूलेंट के रूप में किया जाता है।

बायो-इनोक्यूलेंट्स क्या हैं?

बायो-इनोकुलेंट बैक्टीरिया, शैवाल या कवक के उपभेद हैं। वे वातावरण से नाइट्रोजन लेते हैं और पौधों के लिए आवश्यक नाइट्रेट तैयार करते हैं। इसके द्वारा उर्वरकों का उपयोग कम हो जाता है। वे पौधों के लिए जिंक और फॉस्फोरस उपलब्धता भी बढ़ाते हैं।

लाभ

कार्बन डाइऑक्साइड के बाद मीथेन दूसरा सबसे बड़ा ग्रीन हाउस गैस योगदानकर्ता है । कृषि में मेथेनोट्रोफिक बैक्टीरिया के उपयोग के साथ, मीथेन का उत्सर्जन बहुत कम हो जाएगा। मीथेन जाल कार्बन डाइऑक्साइड से फंसगर्मी के ८४ बार ।

DsGuruJi Homepage Click Here
DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment