चमगादड़ बिना आँखों के अवरोध की दुरी, दिशा, प्रकृति एवं आकार का पता कैसे लगा लेता है?

चमगादड़ उड़ते समय पराश्रव्य ध्वनियाँ (20,000 आवृति से अधिक) उत्पन्न करती है। ये ध्वनियाँ अवरोध से टकराकर वापस आती हैं तथा यही परावर्तित ध्वनियाँ अवरोध की दुरी, दिशा, प्रकृति एवं आकार का अवबोध कराती हैं।

error: Content is protected !!