भारत का सकल घरेलू उत्पाद क्यों गिर रहा है?

चालू वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) घटकर छह साल के निचले स्तर 5% पर आ गया। इस लेख में हमने भारतीय जीडीपी में गिरावट के कारणों के बारे में बताया है।

मोदी सरकार 2.0 की शुरुआत  उत्साहजनक नहीं लगती क्योंकि अर्थव्यवस्था में कई क्षेत्रों जैसे ऑटोमोबाइल, विनिर्माण, एफएमसीजी, बैंकिंग और कृषि में सुधार के कोई संकेत नहीं दिख रहे हैं। अगस्त 2019 के महीने में; केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने खुलासा किया कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में वास्तविक जीडीपी की वृद्धि दर घटकर 5 साल व छह साल के निचले स्तर पर आ गई।

यह स्पष्ट है कि इस गिरावट के लिए कोई भी कारक जिम्मेदार नहीं है। खराब मांग का दुष्चक्र पूरे गड़बड़झाले के पीछे प्रमुख कारक है।

आइए इस लेख में उन कारणों का पता लगाएं कि भारतीय जीडीपी में गिरावट के पीछे क्या कारण हैं।

1. समग्र मांग में तीव्र गिरावट:

मांग अर्थव्यवस्था का वास्तविक त्वरक है। यदि मांग बढ़ती है तो निर्माता को उत्पादन बढ़ाना होगा जो अधिक श्रम शक्ति को काम पर रखे बिना नहीं बढ़ाया जा सकता है।

रोजगार के अवसरों में वृद्धि से अर्थव्यवस्था में अन्य उत्पादों की मांग बढ़ जाती है। पिछले कुछ महीनों से भारतीय अर्थव्यवस्था कम मांग की समस्या का सामना कर रही है जिसने अंततः पूरी अर्थव्यवस्था को फंसा दिया है।

2. खपत में तेज गिरावट

उपभोग का सकल घरेलू उत्पाद का 55-58% हिस्सा है। याद रखें कि खपत भारत में घरेलू मांग के मूल में है। भारतीय अर्थव्यवस्था ने मार्च तिमाही में निजी अंतिम उपभोग व्यय में 7.2% से जून में 3.1% की तीव्र गिरावट का अनुभव किया।

3. जीएसटी कार्यान्वयन में गलत प्रक्रिया

जीएसटी-संग्रह

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) एक बहुत ही बढ़ावा देने वाला कदम है (भारतीय कर के रूप में सरकार को कर संग्रह के रूप में प्रति माह लगभग 1 लाख करोड़ रुपये मिल रहे हैं) लेकिन इसका कार्यान्वयन अधिक सुचारू नहीं है। व्यापारियों को जीएसटी रिटर्न प्राप्त करने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और उनका भारी पैसा सरकार के हाथों में फंस गया है जो संसाधनों की सीमित उपलब्धता के कारण उनके व्यवसाय को प्रभावित कर रहा है।

4. निवेश में कमी

अप्रैल से जून 2019 के दौरान घोषित नई परियोजनाओं के मूल्य में 79.5% की गिरावट है। यह सितंबर 2004 के बाद से सबसे अधिक गिरावट है। इसी तिमाही में घोषित निवेशों का मूल्य 71,337 करोड़ रुपये है, जो सितंबर 2004 के बाद सबसे कम है। यह एक बड़ा संकेत है कि उद्योग भारत के आर्थिक भविष्य में अभी तक आश्वस्त नहीं हैं।

5. बैंकिंग क्षेत्र की खराब स्थिति

एनपीए के- बैंकों-भारत

जैसा कि हम जानते हैं कि भारतीय बैंकिंग क्षेत्र लंबे समय से बहुत कठिन दौर से गुजर रहा है। भारतीय बैंकों का कुल एनपीए लगभग 7.9 लाख करोड़ रुपये है जो अन्य कर्जदारों के लिए नए ऋण का रास्ता रोक रहा है। बैंकों के विलय की हालिया घोषणा निवेशकों और जमाकर्ताओं के मन में अराजकता का माहौल पैदा कर सकती है।

6. कृषि संकट

भारत की विकास की कहानी में भारतीय कृषि का महत्वपूर्ण योगदान रहा है और यह सबसे बड़े नियोक्ताओं में से एक है। यह भारतीय जीडीपी में लगभग 15% का योगदान देता है और देश की लगभग 55% आबादी को रोजगार देता है। लेकिन यह क्षेत्र भी बहुत कठिन समय से गुजर रहा है। किसानों को उनकी फसलों की पर्याप्त कीमत नहीं मिल रही है, इसी कारण देश भर में किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

एजी विकास भारत

महाराष्ट्र में पिछले 3 वर्षों में लगभग 12,000 किसानों ने आत्महत्या की। अब भारत में किसानों की आत्महत्या की दर प्रति 100,000 में 12.9 आत्महत्या है।

तो भारतीय अर्थव्यवस्था के जीडीपी में गिरावट के पीछे ये 6 प्रमुख कारण हैं। मुझे उम्मीद है कि केंद्र सरकार अर्थव्यवस्था को इस जाल से बाहर लाने के लिए कड़ी मेहनत करेगी  हाल ही में बैंकिंग क्षेत्र में बेलआउट पैकेज की घोषणा, कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती, ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए जीएसटी दर में कटौती और अन्य उपायों से भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अनुकूल परिणाम प्राप्त होंगे।

error: Content is protected !!