Current Affairs Hindi

Hong Kong Democracy Act क्या है, हांगकांग संघर्ष क्या है?

डोनाल्ड ट्रम्प ने हांगकांग समर्थक लोकतंत्र बिल पर हस्ताक्षर किया: हांगकांग संघर्ष क्या है? डोनाल्ड ट्रम्प ने एक और विधेयक पर हस्ताक्षर किए जो हांगकांग में क्राउड कंट्रोल उपकरणों के निर्यात पर प्रतिबंध लगाता है जैसे कि आंसू गैस, काली मिर्च स्प्रे, रबर बल्ब आदि।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 27 नवंबर, 2019 को हांगकांग में प्रदर्शनकारियों के समर्थन वाले बिल पर हस्ताक्षर किए। ट्रम्प के हस्ताक्षर के बाद अब यह बिल कानून बन गया है। यह कानून मानव अधिकारों के उल्लंघन पर प्रतिबंधों पर प्रकाश डालता है।

कांग्रेस ने एक और विधेयक भी पारित किया है जिसमें डोनाल्ड ट्रम्प ने भी हस्ताक्षर किए थे। यह हांगकांग पुलिस को आंसू गैस, काली मिर्च स्प्रे, रबर की गोलियां और पत्थर की बंदूक जैसे भीड़ नियंत्रण उपकरणों के निर्यात पर प्रतिबंध लगाता है। इस बिल पर ट्रंप के हस्ताक्षर से पहले चीन ने कई बार आपत्ति जताई थी।

विधेयक के अनुसार, अमेरिका के राष्ट्रपति को हर साल हांगकांग को दी जाने वाली पसंदीदा व्यापारिक स्थिति पर विचार करना होगा। इसके अलावा, बिल यह भी कहता है कि अगर हांगकांग में स्वतंत्रता को कुचल दिया जाता है, तो अमेरिका से प्रतिष्ठित स्थिति को भी वापस लिया जा सकता है।

हांगकांग संघर्ष क्या है?

महीनों की अराजक अशांति के बाद हांगकांग सापेक्ष सामान्यता में आ रहा है। कुछ दिनों पहले विरोध प्रदर्शन चरम पर था। सड़कों को जाम कर दिया गया। सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं। यहां तक ​​कि प्रदर्शनकारियों ने हवाई अड्डे पर कब्जा कर लिया। विवादास्पद प्रत्यर्पण बिल के कारण हजारों लोग पिछले कई हफ्तों से सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे थे।

दरअसल, हांगकांग प्रशासन फरवरी 2019 में एक बिल लाया था जिसमें कहा गया था कि अगर हांगकांग का कोई व्यक्ति चीन में अपराध करता है या करता है, तो उस पर हांगकांग में नहीं बल्कि चीन में मुकदमा चलाया जाएगा। इस मौजूदा कानून में संशोधन के लिए हांगकांग की सरकार ने फरवरी में एक प्रस्ताव लाया था। जोशुआ वांग (23) के नेतृत्व में हांगकांग के युवाओं ने बिल का विरोध करना शुरू कर दिया और चीन के विरोध में सड़कों पर उतर आए। हांगकांग की सड़कों पर लाखों युवा एकत्रित हुए। आखिरकार, सितंबर 2019 में, हांगकांग सरकार ने चीनी प्रत्यर्पण बिल को वापस ले लिया है।

कौन है जोशुआ वोंग?

जोशुआ वोंग उस समय सुर्खियों में आया जब उसने 2014 में Um छाता आंदोलन ’शुरू किया। आंदोलन का उद्देश्य हांगकांग में लोकतंत्र लाना और मतदान के अधिकार को बढ़ाना था। वह उस समय सिर्फ 19 साल के थे। अम्ब्रेला मूवमेंट के कारण प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका ‘टाइम’ ने 2014 के सबसे प्रभावी किशोरों में जोशुआ वोंग का नाम दिया।

जोशुआ को 2015 में फॉर्च्यून पत्रिका द्वारा ‘ग्रेटेस्ट लीडर्स इन द वर्ल्ड’ श्रेणी में शामिल किया गया था। इसके अलावा, वोंग को वर्ष 2018 में नोबेल शांति पुरस्कार के लिए भी नामित किया गया था। वह उस समय सिर्फ 22 साल के थे। जोशुआ वर्तमान में हांगकांग की राजनीतिक पार्टी डेमोसिस्टो के महासचिव हैं। उन्होंने 19 साल की उम्र में इस पार्टी की स्थापना की।

DsGuruJi Homepage Click Here
DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment