UP GK

उत्तर प्रदेश की जनजातियां: जानिए उत्तर प्रदेश की प्रसिद्ध जनजातियों के बारे में

उत्तर प्रदेश की जनजातियाँ: उत्तर प्रदेश भारत के सबसे अधिक आबादी वाले राज्यों में से एक है और कई आदिवासी समुदायों में भी निवास करता है। राज्य में कुछ प्रमुख जनजातियां बैगा, अगरिया, कोल और अधिक हैं और उनमें से कुछ को भारत सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश की अनुसूचित जनजातियों के रूप में स्वीकार किया गया है।

इस लेख में हम उत्तर प्रदेश की प्रसिद्ध जनजातियों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। उत्तर प्रदेश राज्य में निवास करने वाली कुछ जनजातियां इस प्रकार हैं-

थारू जनजाति (Tharu Tribes)

थारू जनजाति मुख्य रूप से गोरखपुर और तराई क्षेत्रों में पाई जाती है, जो कुशीनगर से लखीमपुर खीरी जिलों तक सबसे उत्तरी भागों में फैली हुई है। उनमें से अधिकांश वनवासी हैं और कृषि का अभ्यास करते हैं। माना जाता है कि थारू शब्द स्थावीर से लिया गया है जिसका अर्थ है थेरवाद बौद्ध धर्म के अनुयायी। खाओ धीकरी जो भाप चावल का एक पकवान है जिसे घोंगी के साथ करी के साथ खाया जाता है, जो मादक पेय पदार्थों के साथ मसालों में पकाया जाने वाला एक खाद्य घोंघा है। वे दिवाली को शोक दिवस के रूप में मनाते हैं और अपने पूर्वजों को प्रसाद देते हैं।

  • थारू जनजाति उत्तर प्रदेश में गोरखपुर एवं तराई क्षेत्र में निवास करती है।
  • ये किरात वंश (Kirat Dynasty) के हैं तथा कई उपजातियों में विभाजित हैं।
  • कुछ विद्वानों के विचार से ‘थार’ का तात्पर्य है ‘मदिरा’ और ‘थारू’ का अर्थ ‘मदिरापान करने वाला’। चूंकि ये मदिरा का सेवन पानी की तरह करते हैं, अतः थारू कहलाते हैं।
  • कुछ विद्वानों का कहना है कि थारू जाति के लोग राजपूताना के ‘थार मरुस्थल से आकर यहाँ बसे हैं’ अतः थारू कहलाते हैं।
  • थारू जाति के लोग कद में छोटे, चौडी मुखाकृति और पीले रंग के होते हैं। पुरुषों से स्त्रियाँ कहीं अधिक आकर्षक और सुन्दर होती हैं।
  • थारू पुरुष लंगोटी की भाँति धोती लपेटते हैं और बड़ी चोटी रखते हैं, जो हिन्दुत्व का प्रतीक है।
  •  थारू स्त्रियाँ रंगीन लहँगा, ओढ़नी, चोली और बूटेदार कुर्ता पहनती हैं।
  • थारू जाति के लोग अपना घर मिट्टी और ईंटों का नहीं बनाते हैं। इनके मकान लकड़ी के लट्ठों और नरकुलों के द्वारा बनाये जाते हैं।
  • थारूओं का भोजन मुख्य रूप से चावल है। मछली, दाल, गाय-भैंस का दूध, दही तथा जंगल से आखेट किये जन्तुओं का माँस भी खाते हैं। ये सूअर और मुर्गी पालते हैं और उनका माँस व अण्डे भी प्रयोग करते हैं।
  • थारुओ द्वारा बजहर नामक त्यौहार मनाया जाता है दीपावली को ये शोक पर्व के रूप में मनाते है , थारू जनजाति द्वारा होली के मौके पर खिचड़ी नृत्य किया जाता है
  • थारू जनजाती के लोगो में बदला विवाह प्रथा तथा तीन टिकठी विवाह प्रथा प्रचलित है , थारुओ में दोनों पक्षो से विवाह तय हो जाने को पक्की पोड़ी कहा जाता है
  • उत्तर प्रदेश में 2 अक्टूबर 1980 को थारू विकास परियोजना का प्रारंभ किया गया

बुक्सा जनजाति (Buksa Tribe)

  • BUKSA मुख्य रूप से बिजनौर में उत्तर प्रदेश के भारतीय राज्यों में रहते हैं वे स्वदेशी लोग हैं जिन्हें अनुसूचित जनजातियों का दर्जा दिया गया है। वे बुक्सा भाषा बोलते हैं जिसकी तुलना राणा थारू से की जा सकती है। अपनी एनिमिस्ट परंपराओं को छोड़ने के बाद, वे अब मूल रूप से हिंदू हैं। वे शकुम्बरी देवी के आदिवासी देवता की पूजा करते हैं। विलियम क्रूक ने उन्हें राजपूतों के वंश के रूप में बुलाया। चावल और मछली इस जनजाति का मुख्य भोजन हैं। इन्हें भोकसा भी कहा जाता है।

  • बुक्सा अथवा भोक्सा जनजाति उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में छोटी-छोटी ग्रामीण बस्तियों में निवास करती है।
  • बुक्सा जनजाति के लोगों का कद और आँखें छोटी होती हैं। उनकी पलकें भारी, चेहरा चौड़ा एवं नाक चपटी होती है। कुल मिलाकर इनका सम्पूर्ण चेहरा ही चौड़ा दिखाई देता है। जबड़े मोटे और निकले हुए तथा दाढ़ी और मूंछे धनी और बड़ी होती हैं।
  • बुक्सा लोग प्रमुख रूप से हिन्दी भाषा बोलते हैं। इनमें जो लोग लिखना-पढ़ना जानते हैं वे देवनागरी लिपि का प्रयोग करते हैं।
  • इनका मुख्य भोजन मछली व चावल है। इसके अलावा ये लोग मक्का व गेहूँ की रोटी और दूध-दही का प्रयोग करते हैं। इन लोगों में बन्दर, गाय और मोर का माँस खाना वर्जित होता हैं।
  • बुक्सा पुरुषों की वेशभूषा में धोती, कुर्ता, सदरी और सिर पर पगड़ी धारण करते हैं। नगरों में रहने वाले पुरुष गाँधी टोपी, कोट, ढीली पेन्ट और चमड़े के जूते, चप्पल आदि पहनते हैं। स्त्रियाँ पहले गहरे लाल, नीले या काले रंग की छींट का ढीला लहंगा पहनती थीं और चोली (अंगिया) के साथ ओढ़नी (चुनरी) सिर पर पहनती थीं, लेकिन अब स्त्रियों में साड़ी, ब्लाउज, स्वेटर एवं कार्कीगन का प्रचलन सामान्य हो गया है।
  • उत्तर प्रदेश में बुक्सा जनजाति विकास परियोजना 1983-84 में प्रारंभ की गयी

जौनसारी जनजाति

  • जौनसारी समुदाय के मुख्य त्यौहार बिस्सू (बैसाखी) , पंचाई (दशहरा), दियाई (दिवाली), नुणाई , अठोई आदि है ये दीपावली को एक माह बाद मनाते है
  • हारुल, रासों, घुमसू , झेला, धीई, तांदी, मरोज , पौणाई आदि इनके प्रमुख्य नृत्य है

माहीगीर जनजाति (Mahigeer Tribal)

  • माहीगीर आदिवासी उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के नजीबाबाद क्षेत्र में निवास करते हैं।
  • माहीगीर जनजाति मछुआरे हैं तथा उन्हीं से अपना सम्बन्ध बताते हैं।
  • इस जनजाति के लोगों ने इस्लाम धर्म को अपना लिया है।
  • माहीगीर जनजाति अपने ही समुदाय में विवाह करती है।
  • इस जनजाति का मख्य व्यवसाय मछली पकड़ना है।
  • इस जनजाति में शिक्षा का काफी अभाव है।

खरवार जनजाति (Kharwar Tribe)

  • उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में खरवार जनजाति निवास करती है। इनका मूल क्षेत्र बिहार का पलामू और अठारह हजारी क्षेत्र है।
  • खरवार जाति के लोग साधारणतः टेहुन तक धोती, बंडी एवं सिर पर पगड़ी पहनते हैं तथा स्त्रियाँ साड़ी पहनती हैं। इनके आभूषणों में हैकल, हँसुली, बाजूबन्द, कड़ा, नथिनी, बरेखा, गुरिया या नँगा की माला आदि मुख्य हैं।
  • खरवार जनजाति मुख्यतः हिन्दू धर्म के रीति रिवाजों का पालन करती है।
  • खरवार जनजाति के लोग माँसाहारी और शाकाहारी दोनों प्रकार के होते हैं।

BAIGA आमतौर पर उत्तर प्रदेश में पाया जाता है, यह जनजाति ‘शिफ्टिंग खेती’ का अभ्यास करती है जो स्लैश-बर्न या दहिया की खेती है। बैगा ने अपनी जीवन शैली के एक अभिन्न अंग के रूप में टैटू किया है। वे द्रविड़ों के उत्तराधिकारी हैं। टैटू कलाकारों को गोधरिन के रूप में जाना जाता है। वे आमतौर पर मोटे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जिनमें कोडो, मोटे अनाज, कुटकी शामिल हैं, कुछ आटा खाते हैं और पीई पीते हैं वे छोटे स्तनधारियों और मछली का शिकार भी करते हैं और चार, आम, तेंदू और जामुन जैसे फल खाते हैं।

कोल मुख्य रूप से प्रयागराज, वाराणसी, बांदा और मिर्जापुर जिलों में पाए जाते हैं, कोल उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी जनजाति है। यह समुदाय लगभग पांच शताब्दियों पहले भारत के मध्य भागों से पलायन कर गया था। वे यूपी में उपलब्ध अनुसूचित जातियों में से एक हैं। मोनासी, रौतिया, थलूरिया, रोजाबोरिया, भील, बाड़ावायर और चेरो जैसे बहिर्गामी कुलों में विभाजित, वे हिंदू धर्म के अनुयायी हैं और बघेलखंडी कोल में बोलते हैं, आय के लिए जंगल पर निर्भर करते हैं। पत्तियों और जलाऊ लकड़ी को उनके द्वारा एकत्र किया जाता है और स्थानीय बाजारों में बेचा जाता है।

घसिया या घसिया जिसे घसियारा के नाम से भी जाना जाता है, एक हिंदू जाति है। इन्हें अनुसूचित जाति का दर्जा प्राप्त है और वे उत्तर प्रदेश में पाए जाते हैं। परंपरागत रूप से घासिया शब्द का अर्थ घास काटने वाला होता है। वे उत्तर प्रदेश के दक्षिणी हिस्सों में सोनभद्र और मिर्जापुर के कई आदिवासी समुदायों में से एक हैं। उनके दावों के अनुसार, वे मध्य प्रदेश के सरगुजा जिले से चले गए हैं और कुछ समय में, वे शासक थे, लेकिन जब से उन्होंने अपने शासन खो दिए, उन्होंने खेती शुरू कर दी।

DsGuruJi Homepage Click Here
DSGuruJi - PDF Books Notes