Advertisements

राजस्थान की छतरियाँ {Rajasthan Ctriya} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

1. 84 खम्बों की छतरी

  • बूंदी के देवपुरा गांव के निकट स्थित है
  • इसका निर्माण राव अनिरुद्ध सिंह ने अपने भाई देवा की याद में 1740 में कराया था
  • यह तीन मंजिला छतरी 84 खम्भों पर स्थित है
  • इस छतरी के मध्य, शिवलिंग है

2. मुसी रानी की छतरी

  • मुसी रानी की छतरी अलवर के महल के पास सरोवर के किनारे स्थित है
  • मुसी रानी की छतरी का निर्माण महाराजा बख्तावरसिंह एवं उनकी रानी मूसी की याद में विनयसिंह ने करवाया था
  • इसकी निचली मंजिल लाल पत्थर एवं उपरी मंजिल सफ़ेद पत्थर से बनी है
  • यह 19वीं सदी के राजपूत स्थापत्य का एक नमूना है
  • इसे 80 खम्भों की छतरी के नाम से भी जाना जाता है

3. गैटोर की छतरियाँ

  • गैटोर की छतरियाँ जयपुर के पास गैटोर में स्थित है
  • यह छतरियां पंचायन शैली में बनी है
  • यह जयपुर के शाही शमशान स्थल है, जहाँ जयपुर के राजाओं की छतरिया है
  • यह छतरियाँ, सवाई जयसिंह से प्रारम्भ होती है
  • यहाँ जयपुर के सभी राजाओं की छतरियों है, सिवाय सवाई ईश्वर सिंह के जिनकी छतरी चन्द्रमहल (सिटी पैलेस) में है

4. सवाई ईश्वर सिंह की छतरियाँ

  • सवाई ईश्वर सिंह की छतरियाँ, चन्द्रमहल (सिटी पैलेस) के जयनिवास उद्यान में स्थित है
  • इसका निर्माण सवाई माधोसिंह ने करवाया था

5. जसवंत थड़ा

  • जोधपुर दुर्ग मेहरानगढ़ के पास ही सफ़ेद संगमरमर का एक स्मारक बना है जिसे जसवंत थड़ा कहते है।
  • इसे सन 1899 में जोधपुर के महाराजा जसवंत सिंह जी (द्वितीय)(1888-1895) की यादगार में उनके उत्तराधिकारी महाराजा सरदार सिंह जी ने बनवाया था।
  • जसवंत थड़ा जोधपुर राजपरिवार के सदस्यों के दाह संस्कार के लिये स्थान है ।
  • जसवंत थड़े के पास ही महाराजा सुमेर सिह जी, महाराजा सरदार सिंह जी, महाराजा उम्मेद सिंह जी व महाराजा हनवन्त सिंह जी के स्मारक बने हुए हैं।

6. मंडोर की छतरिया

  • मंडोर (जोधपुर) में जसवंत-II के पूर्व के शाशकों की छतरियां है
  • यहाँ सबसे बड़ी छतरी अजित सिंह की है

7. महासतिया

  • महासतिया उदयपुर में आहड़ नाम की जगह पर है
  • महाराणा प्रताप के बाद बनने वाले राजाओं की छतरिया यहाँ पर है
  • यहाँ पहली छतरी महाराणा अमरसिंह की है

8. देवी कुण्ड की छतरियाँ

  • यह बीकानेर के शाही शमशान स्थल है, जहाँ बीकानेर के राजाओं की छतरिया है
  • कल्याण सागर के किनारे स्थित इन छतरियों में रायसिंह एवं बीकाजी की छतरियाँ प्रमुख है

9. केसर बाग की छतरियाँ

  • केसर बाग की छतरियाँ बूंदी में स्थित है
  • यह बूंदी के शाही शमशान स्थल है, जहाँ बूंदी के राजाओं की छतरिया है

10. अन्य प्रमुख छतरियां

  • राणा प्रताप की छतरी = चावंड के निकट बाड़ोली गॉव में
  • चेतक की समाधी = हल्दीघाटी के निकट बलीचा गांव में
  • रैदास की छतरी = चित्तौड़गढ़ दुर्ग में
  • मामा भांजा की छतरी = मेहरानगढ़ दुर्ग में
  • उड़ना राजकुमार की छतरी = कुम्भलगढ़ दुर्ग में
  • दुर्गादास की छतरी = उज्जैन के निकट शिप्रा नदी के तट पर
  • 32 खम्बों की छतरी = रणथम्भोर दुर्ग में, जैतसिंह की याद में
  • बोहरा भगत की छतरी = करौली के कैलादेवी मंदिर के पास
  • मूमल की मेढ़ी = लोद्रवा में काक नदी के तट पर, राजकुमारी मूमल (भाटी वंश) की याद में
  • नटनी का चबूतरा = पिछोला झील के किनारे, उदयपुर में
  • जोगीदास की छतरी = उदयपुर वाटी (झुंझुनू) में, भित्तिचित्रण के लिए प्रसिद्ध

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!