राष्ट्रपति पुरस्कार सम्मान पत्र और 2019 के लिए महर्षि बदरेयान व्यास सम्मान

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वर्ष 2019 के लिए संस्कृत, फ़ारसी, अरबी, पाली, प्राकृत, शास्त्रीय कन्नड़, शास्त्रीय तेलुगु, शास्त्रीय मलयालम और शास्त्रीय ओडिय़ा के विद्वानों को महर्षि बदरायण व्यास सम्मान से सम्मानित किया:

महर्षि बदरायण व्यास सम्मान पुरस्कार विजेता

SANSKRIT : (1) डॉ। अशोक थपलियाल; (२) प्रो। सुजाता त्रिपाठी; (३) डॉ.संजु मिश्रा; (४) डॉ। अभिजीत हनमंत जोशी; (५) डॉ.श्रचंद्रदवेदी

पाली : Anoma श्रीराम Sakhare

PRAKRIT : आशीष कुमार जैन

आभारी : डॉ। फौजान अहमद

PERSIAN : (1) ई.आर.एम. शाहबाज आलम

शास्त्रीय कन्नड़ : (1) जीबी हरिशा; (२) एस। कार्तिक; (३) डॉ। एम। बयारप्पा

CLASSICAL TELUGU : (1) डॉ। अडानी श्रीनिवास; (२) डॉ। वी। त्रिवेणी; (३) डॉ। डीके प्रभाकर

क्लासिकल मैलाम : (1) डॉ। राजीव आरआर; (२) श्री संतोष थोट्टाल

CLASSICAL ODIA: डॉ। सुब्रत कुमार प्रिटिश

इसके अलावा राष्ट्रपति ने  वर्ष 2019 के लिए संस्कृत, फारसी, अरबी, पाली, प्राकृत, शास्त्रीय कन्नड़, शास्त्रीय तेलुगु, शास्त्रीय मलयालम और शास्त्रीय ओडिय़ा के निम्नलिखित विद्वानों को सम्मान प्रमाण पत्र से सम्मानित किया  ।

सम्मान पत्र के पुरस्कारकर्ताओं की सूची –

SANSKRIT : (1) श्रीपाद सत्यनारायणमूर्ति; (2) राजेंद्रनाथशर्मा; (3) प्रो। रामजी ठाकुर; (4) प्रो.चंद किरणसालुजा; (5) डॉ। श्रीकृष्ण शर्मा; (6) डॉ। वी। रामकृष्ण भट्ट; (() विदवान जनार्दन हेगड़े; (() डॉ। कला आचार्य; (९) प्रो। (डॉ।) हरेकृष्ण सतपथी; (१०) पंडित सत्य देव शर्मा; (११) बनवारी लाल गौड़; (१२) डॉ। वीएस करुणाकरण; (१३) प्रो। युगल किशोर मिश्र; (१४) पंडित मनुदेव भट्टाचार्य; (१५) सुबुद्धि चरन गोस्वामी

PALI:  डॉ। उमा शंकर व्यास

PRAKRIT:  कमल चंद सोगानी

ARABIC  (1) फैजानुल्लाह फारूकी; (2) मोहम्मद इकबाल हुसैन; (3) डॉ। मो। समीउल्लाह खान

PERSIAN : (1) डॉ। इराक रजा जैदी; (2) चंदर शेखर (3) मोहम्मद सिद्दीक नियाजमंद

शास्त्रीय कथा : श्री हम्पा नागराजा

CLASSICAL TELUGU : राववा श्रीहरि

शास्त्रीय MALAYALAM : Dr.CP अच्युतन unny

CLASSICAL ODIA : डॉ। अन्तर्यामी मिश्र

महर्षि बदरायण व्यास सम्मान के बारे में

पुरस्कारों को स्वतंत्रता दिवस पर प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है। इन्हें 1958 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा स्थापित किया गया था।

इन पुरस्कारों को नौ भाषाओं के क्षेत्र में विद्वानों के योगदान को मान्यता देने के लिए सम्मानित किया गया। संस्कृत, प्राकृत, फारसी, पाली, अरबी, शास्त्रीय उड़िया, शास्त्रीय कन्नड़, शास्त्रीय मलयालम और शास्त्रीय तेलुगु।

सम्मान पत्र:  यह 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के विद्वानों को प्रदान किया जाता है। यह रुपये का नकद पुरस्कार देता है। 5,00,000।

महर्षि बद्रीयन व्यास सम्मान:  यह 30 से 45 वर्ष के बीच के युवा विद्वानों को प्रदान किया जाता है। यह रुपये का नकद पुरस्कार देता है। 1 लाख।

छूट:  इन पुरस्कारों को मरणोपरांत नहीं दिया जाता है और उन विद्वानों को दिया जाता है जो पहले सम्मानित हो चुके हैं, या जिन्हें आपराधिक मामले में दोषी ठहराया गया है या जिनके खिलाफ आपराधिक मामला अदालत में लंबित है।

error: Content is protected !!