आज के टॉप करेंट अफेयर्स

नीलम संजीव रेड्डी से द्रोपदी मुर्मू तक, पढ़ें क्यों भारत के राष्ट्रपति ने 25 जुलाई को ली शपथ

द्रोपदी मुर्मू ने भारत के राष्ट्रपति के रूप में पहले आदिवासी व्यक्ति के रूप में शपथ ली, जिन्होंने आज इतिहास बनाया। द्रोपदी मुर्मू ने सुबह 10 बजे संसद के केंद्रीय कक्ष में शपथ ली। इससे पहले, रामनाथ कोविंद, प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा पाटिल, एपीजे अब्दुल कलाम – इन सभी ने 25 जुलाई को राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। इस दिन राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण क्यों होता है?

उल्लेखनीय है कि 1977 से ही राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण 25 जुलाई से शुरू हो चुका है। भारत के छठे राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने उसी दिन शपथ ली थी। इसके बाद से सभी राष्ट्रपतियों ने 25 जुलाई को शपथ ली है। क्योंकि 1977 के बाद से सभी राष्ट्रपतियों ने अपना पूरा कार्यकाल पूरा किया है। तदनुसार, सभी राष्ट्रपतियों का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो गया। इस माहौल में अगले राष्ट्रपति ने पिछले साढ़े चार दशक से 25 जुलाई को शपथ ली।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद देश के पहले राष्ट्रपति बने। उन्होंने 26 जनवरी 1950 को शपथ ली। वह 13 मई, 1962 तक राष्ट्रपति रहे। इसके बाद सर्वपल्ली राधाकृष्णन राष्ट्रपति बने। उन्होंने अपने पूरे कार्यकाल तक पद संभाला। लेकिन तब फकरुद्दीन अली अहमद और जाकिर हुसैन राष्ट्रपति के रूप में अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सके थे। इस बीच विवि गिरी ने अपना कार्यकाल पूरा कर लिया था। बीडी जट्टी ने तब 25 जुलाई, 1977 तक अंतरिम अध्यक्ष के रूप में पद संभाला। तब से सभी राष्ट्रपतियों ने अपने पांच साल के कार्यकाल को पूरा कर लिया है। और सभी ने 24 जुलाई को अपना-अपना कार्यकाल पूरा किया। इस माहौल में अगले राष्ट्रपति ने 25 जुलाई को शपथ ली। और यह परंपरा पिछले चार दशकों से चली आ रही है।

DsGuruJi Homepage Click Here
DSGuruJi - PDF Books Notes