राजस्थान के प्रमुख खनिज {Major Minerals of Rajasthan} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

  • राजस्थान खनिज संपदा से संपन्न राज्य है, जहां 79 प्रकार के खनिज पाये जाते हैं, जिनमें से 58 फीसदी का व्यावसायिक दोहन किया जा रहा है।
  • जेस्पार, गार्नेट, वोलस्टोनाइट और पन्ना का राजस्थान देश का एकमात्र उत्पादक राज्य है। देश में उत्पादित जस्ता का 99 प्रतिशत, जिप्सम का 93 प्रतिशत, ऐस्बस्टोस का 89 प्रतिशत, घिया पत्थर (सोप स्टोन) का 85 प्रतिशत, सीसा का 77 प्रतिशत, रॉक फास्फेट का 75 प्रतिशत, फेल्सपार का 70 प्रतिशत, बुल्फेमाइट का 50 प्रतिशत, तांबा का 36 प्रतिशत तथा अभ्रक का 22 प्रतिशत भाग राजस्थान का है।
  • लिग्नाइट (4980 मिलियन टन), कच्चा तेल (480 मिलियन टन), हेवी ऑयल (14.60 मिलियन टन), बिटूमन (33.20 मिलियन टन), लीन गैस (11790 मिलियन घन मीटर), हाई क्वालिटी गैस (3000 मिलियन घन मीटर) के विशाल भंडार ने राज्य की खनिज क्षमता में इजाफा किया है।
  • खनन राज्य के ग्रामीण एवं आदिवासी इलाकों में रोजगार का न सिर्फ प्रमुख स्रोत है, बल्कि राजस्व का भी है और यह राज्य के विकास में मुख्य योगदान दे रहा है।
  • ताँबा राजस्थान के कई स्थानो पर मिलता है, इनमें झुंझुंनू जिले में खेतड़ी, सिंघाना तथा अलवर जिले में खो-दरीबा क्षेत्र महत्वपूर्ण हैं।
error: Content is protected !!