Advertisements

राजस्थान की प्रमुख बोलियाँ {Major Bids of Rajasthan} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

  • भारत के अन्य राज्यों की तरह राजस्थान में कई बोलियाँ बोली जाती हैं। वैसे तो समग्र राजस्थान में हिन्दी बोली का प्रचलन है लेकिन लोक-भाषाएँ जन सामान्य पर ज़्यादा प्रभाव डालती हैं।
  • जार्ज अब्राहम ग्रियर्सन ने राजस्थानी बोलियों के पारस्परिक संयोग एवं सम्बन्धों के विषय में वर्गीकरण किया है। जार्ज ग्रियर्सन का वर्गीकरण इस प्रकार है :-
  • 1. पश्चिमी राजस्थान में बोली जाने वाली बोलियाँ – मारवाड़ी, मेवाड़ी, ढारकी, बीकानेरी, बाँगड़ी, शेखावटी, खेराड़ी, मोड़वाडी, देवड़ावाटी आदि।
  • 2. उत्तर-पूर्वी राजस्थानी बोलियाँ – अहीरवाटी और मेवाती।
  • 3. मध्य-पूर्वी राजस्थानी बोलियाँ – ढूँढाड़ी, तोरावाटी, जैपुरी, काटेड़ा, राजावाटी, अजमेरी, किशनगढ़, नागर चोल, हड़ौती।
  • 4. दक्षिण-पूर्वी राजस्थान – रांगड़ी और सोंधवाड़ी
  • 5. दक्षिण राजस्थानी बोलियाँ – मेवाड़ी, निमाड़ी आदि।

नरोतम स्वामी का वर्गीकरण इस प्रकार है

  • 1. पष्चिमी राजस्थानी- मारवाड़ी
  • 2. पूर्वी राजस्थानी – ढूढाड़ी
  • 3. उत्तरी राजस्थानी – मेवाती
  • 4. दक्षिणी राजस्थानी- मालवी

मोतीलाल मेनारिया के अनुसार राजस्थान की निम्नलिखित बोलियाँ हैं :-

  • 1. मारवाड़ी – जोधपुर, जैसलमेर, बीकानेर व शेखावटी
  • 2. मेवाड़ी – उदयपुर, भीलवाड़ा व चित्तौड़गढ़
  • 3. बाँगड़ी – डूंगरपूर, बाँसवाड़ा, दक्षिण-पश्चिम उदयपुर
  • 4. ढूँढाड़ी – जयपुर
  • 5. हाड़ौती – कोटा, बूँदी, शाहपुर तथा उदयपुर
  • 6. मेवाती – अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली (पूर्वी भाग)
  • 7. ब्रज – भरतपुर, दिल्ली व उत्तरप्रदेश की सीमा प्रदेश
  • 8. मालवी – झालावाड़, कोटा और प्रतापगढ़
  • 9. रांगड़ी – मारवाड़ी व मालवी का सम्मिश्रण

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!