राजस्थान का कछवाहा (जयपुर) राज्य {Kachwaha (Jaipur) State of Rajasthan} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

  • कछवाहा वंश राजस्थान के इतिहास में प्रसिद्ध चौहानों की एक शाखा, जो राजस्थानी इतिहास के मंच पर बारहवीं सदी से दिखाई देता है। कछवाहा राजपूत अपने वंश का आदि पुरुष श्री रामचन्द्र जी के पुत्र कुश को मानते हैं।
  • कछवाहा वंश की स्थापना कछवाहों के नरवर शाखा के एक वंशज दुल्हाराय ने 1137 ई. में कछवाह वंश की स्थापना की, जो कि 1170 ई. में मीणो से एक युद्ध में मारा गया तब इसका पुत्र कोकिल देव अगला शासक बना।
  • 1207 ई. में कोकिल देव ने मीणों से आमेर छीन लिया और उसे अपनी राजधानी बनाया जो अगले 520 वर्षो तक कछवाहा वंश की राजधानी रही।
  • कछवाहों को प्रारम्भ में मीणा और बड़गुर्जरों का सामना करना पड़ा था। इस वंश के प्रारम्भिक शासकों में दुल्हराय व पृथ्वीराज बडे़ प्रभावशाली थे, जिन्होंने दौसा, रामगढ़, खोह, झोटवाड़ा, गेटोर तथा आमेर को अपने राज्य में सम्मिलित किया था।
  • कछवाहे पृथ्वीराज चौहान, राणा सांगा का सामन्त होने के नाते ‘खानवा के युद्ध’ (1527) में मुग़ल बादशाह बाबर के विरुद्ध लड़े थे। पृथ्वीराज की मृत्यु के बाद कछवाहों की स्थिति संतोषजनक नहीं थी। गृहकलह तथा अयोग्य शासकों से राज्य निर्बल हो रहा था।
  • 1547 ई. में राजा भारमल ने आमेर की बागडोर अपने हाथ में ली और 1562 ई. में अकबर की अधीनता स्वीकार कर अपनी ज्येष्ठ पुत्री ‘हरकूबाई’ का विवाह अकबर के साथ कर दिया। भारमल पहला राजपूत था, जिसने मुग़लों से वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित किये थे।
  • राजा भारमल के पश्चात् कछवाहा शासक मानसिंह अकबर के दरबार का योग्य सेनानायक था। रणथम्भौर के 1569 ई. के आक्रमण के समय मानसिंह और उसके पिता भगवानदास अकबर के साथ थे। मानसिंह को अकबर ने काबुल, बिहार और बंगाल का सूबेदार नियुक्त किया था। वह अकबर के नवरत्नों में शामिल था।
  • मानसिंह के पश्चात् के शासकों में मिर्ज़ा राजा जयसिंह (1621-1667 ई.) महत्त्वपूर्ण था, जिसने 46 वर्षों तक शासन किया। इस दौरान उसे अन्य मुग़ल बादशाहों जहाँगीर, शाहजहाँ और औरंगज़ेब की सेवा में रहने का अवसर प्राप्त हुआ था। उसे शाहजहाँ ने ‘मिर्ज़ा राजा’ का खिताब प्रदान किया था।
  • जयसिंह ने पुरन्दर में छत्रपति शिवाजी को पराजित कर उसे मुग़लों से संधि के लिए बाध्य किया था। 11 जून, 1665 को शिवाजी और जयसिंह के मध्य इतिहास प्रसिद्ध ‘पुरन्दर की सन्धि’ हुई थी, जिसके अनुसार आवश्यकता पड़ने पर शिवाजी ने मुग़लों की सेवा में उपस्थित होने का वचन दिया था।
  • कछवाहा शासकों में सवाई जयसिंह द्वितीय (1700-1743) का अद्वितीय स्थान है। वह राजनीतिज्ञ, कूटनीतिज्ञ, खगोलविद, विद्वान एवं साहित्यकार तथा कला का पारखी था। वह मालवा का मुग़ल सूबेदार रहा था। जयसिंह ने मुग़ल प्रतिनिधि के रूप में जाटों का दमन किया। उसने 1725 ई. में नक्षत्रों की शुद्ध सारणी बनाई और उसका नाम तत्कालीन मुग़ल सम्राट के नाम पर ‘जीजमुहम्मदशाही’ नाम रखा।
  • जयपुर राजवंश, पहले मुगलों एवं बाद में अंग्रेजों की अधीनता एवं संधि को बेहतर समझकर राज किया एवं आखिरकर स्वतंत्रता के बाद भारत देश में शामिल हुआ ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!