सम्पूर्ण जानकारी

भारत और चीन अंतरिक्ष कार्यक्रम की तुलना: सम्पूर्ण जानकारी

केवल संयुक्त राज्य अमेरिका, सोवियत संघ, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और भारत ने सफलतापूर्वक मंगल की कक्षा में प्रवेश करने के लिए अंतरिक्ष यान भेजा है।  लेकिन चीन को मंगल ग्रह पर पहुंचने वाला 5 वां देश बनने में देर नहीं लगेगी। चीन 2020 में अपना मंगल अभियान शुरू करने वाला है।

चंद्र सतह पर चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर के हाल के असफल लैंडिंग प्रयास ने भारत में कई लोगों को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन और अंतरिक्ष की खोज ने बहुत प्रभावित किया है। हमारे सामने बड़ा सवाल यह है कि भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम चीनी अंतरिक्ष कार्यक्रम से बढ़त बनाए रखने में सक्षम होगा।

आइए विश्लेषण करते हैं कि इसरो और चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन ने अबतक क्या हासिल किया है।

ISRO और CNSA की तुलना

पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना ने 1970 में (डोंगफेंगहोंग आई) अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक अपना पहला उपग्रह लॉन्च किया जबकि इसरो ने 1975 (आर्यभट्ट) अपना पहला उपग्रह लॉन्च किया। चीन तब भी सैटेलाइट लॉन्च करने में भारत से आगे था, जब भारत और चीन मामूली जीडीपी के मामले में बराबरी पर खड़े थे।

ध्यान देने वाली एक और बात यह है कि चीनी निर्मित लांचर का उपयोग करके चीन से चीनी उपग्रह लॉन्च किया गया था, जबकि भारतीय उपग्रह (आर्यभट्ट) को कोस्मोस -3 एम – एक रूसी अंतरिक्ष प्रक्षेपण वाहन की मदद से USSR से लॉन्च किया गया था।

एशियाई प्रतिद्वंद्वियों के बीच मानव अंतरिक्ष यान

इसके बाद अंतरिक्ष अन्वेषण में चीन को सफलता 2003 में आई जब उन्होंने सफलतापूर्वक एक आदमी को लो अर्थ ऑर्बिट में भेजा और अंतरिक्ष में मनुष्यों को भेजने के लिए तकनीक विकसित करने वाला पहला एशियाई राष्ट्र बना। तब से चीन ने सफलतापूर्वक 11 चीनी नागरिकों को अंतरिक्ष (9 पुरुषों और 2 महिलाओं) में भेजा है।

READ  List of Nobel Prize in all categories 2018 in Hindi

यह ध्यान देने योग्य है कि सुरक्षा चिंताओं के कारण, यूएस नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) के सभी शोधकर्ताओं को चीनी नागरिकों के साथ चीनी राज्य उद्यम या इकाई के साथ काम करने की मनाही है। लेकिन चीनी ने अपने मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम को बढ़ाने में रूसियों से मदद ली थी। वर्ष 1995 में चीन ने मिसाइल अंतरिक्ष निगम एनर्जिया (Russia’s chief space station contractor) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, ताकि चीनी अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रशिक्षण और रूसी सोयुज अंतरिक्ष यान के कैप्सूल के बारे में तकनीकी जानकारी दी जा सके।

कुछ वर्षों के बाद एक अन्य समझौते पर हस्ताक्षर किए गए जहां रूस डॉकिंग, उड़ान नियंत्रण और जीवन समर्थन प्रणालियों के विकास के साथ चीन की सहायता के लिए सहमत हुआ।

दूसरी ओर भारत दिसंबर 2021 तक अपने स्वयं के लांचर का उपयोग करके अंतरिक्ष में अपना पहला अंतरिक्ष यात्री भेजने के की तेयारी कर रहा है।

रूसी इस एशियाई मानव अंतरिक्ष यान की कहानी में अपनी सहायक भूमिका निभा रहे हैं, साथ ही जल्द ही भारतीय अंतरिक्ष यात्री होने का प्रशिक्षण भी ले रहे हैं।

उम्मीद है कि भारत गगनयान मिशन को सफलतापूर्वक पूरा करने का प्रबंधन करेगा, लेकिन ऐसा करने के बाद भी इसरो इस संबंध में चीनी अंतरिक्ष कार्यक्रम से लगभग 2 दशक पीछे रहेगा।

एक और ध्यान देने वाली बात यह है कि इसरो 2019 में चंद्र की सतह पर एक रोवर को सॉफ्ट-लैंड करने में विफल रहा, जबकि चीन ने 2013 में चांग’ई 3 के तहत इसे सफलतापूर्वक किया। 3. चीनी लैंडर ने चंद्र सतह पर सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंड नहीं किया, यह अभी भी 2019 में काम कर रहा है, इसमें स्थापित रेडियोसोटोप हीटर इकाई के लिए धन्यवाद। इसरो ने 2023-2034 में चंद्रमा पर एक रोवर को सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंड कर सकता है लेकिन फिर से हमें चीन से एक दशक पीछे कर देगा।

READ  नीति आयोग क्या है और इससे संबंधित प्रश्न | What is the policy commission and questions related to it

भविष्य के गर्त में क्या छिपा हैं

अंतरिक्ष अन्वेषण में एक प्रमुख क्षेत्र है, हालांकि जहां इसरो चीन से आगे है – मंगल। केवल संयुक्त राज्य अमेरिका, सोवियत संघ, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और भारत ने सफलतापूर्वक मंगल की कक्षा में प्रवेश करने के लिए अंतरिक्ष यान भेजा है। लेकिन चीन को मंगल ग्रह पर पहुंचने वाला 5 वां देश बनने में देर नहीं लगेगी। चीन 2020 में अपना मंगल अभियान शुरू करने वाला है।

DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment