ज्ञान कोश

अंगुलि छाप पाउडर

अंगुलि छाप पाउडर फोटोग्राफी द्वारा घटनास्थल पर मिली अंगुलियों की छाप का अध्ययन जिस पाउडर द्वारा किया जाता है उसे अंगुलि छाप पाउडर कहते हैं। इसका प्रयोग फोटोग्राफ में अधिक वैषम्य बढ़ाने के लिए किया जाता है। पाउडर द्वारा अंगुली के निशानों को प्रदर्शित करने के लिए पाउडर के रंग का चयन करना बहुत आवश्यक है।

पॉउडर का चयन

पाउडर का चयन बहुत से कारणों पर आधारित है। भूरे रंग की पृष्ठभूमि पर गहरे काले रंग का फोटो तैयार करके अध्ययन करने में सुविथा होती है। पर कहीं-कहीं श्वेत पृष्ठभूमि पर काले रंग के निशान का अध्ययन करना सरल होता है। इस दशा में सफेद रंग के पाउडर से धूलीकरण करने के उपरांत फोटो लेकर उसकी स्लाइड तैयार की जाती है। साधारणतया श्वेत पृष्ठभूमि पर काले पाउडर तथा काली पृष्ठभूमि पर सफेद पाउडर का ही प्रयोग किया जाता है। लेकिन यदि बहुरंगों वस्तु पर अंगुली का निशान है तब रंग चयन में असुविधा होती है। जैसे अंगुली का निशान सफेद तथा नीले रगं की पृष्ठभूमि पर पड़ता है तो वैषम्य बढ़ाने के लिए लाल रंग के पाउडर का प्रयोग करना अच्छा होता है।

विशेषताएँ

प्रत्येक रंग के पाउडर को अपनी विशेषता होती है जो स्थान-स्थान पर, वस्तु-वस्तु पर निर्भर करती है। नीचे कुछ पाउडर सूत्र में लिखे गए हैं जिनका  भि­­न्न-भि­­न्न दशाओं में प्रयोग करके अंगुलियों की छाप का अध्ययन किया जाता है:

 

क्र.सं.पॉउडर सूत्र
1.लैंप ब्लैक 70 भाग
ग्रेफाइट 20 भाग
अकेशिया चूर्ण 10 भाग
2.चारकोल 74 भाग
अल्यूमीनियम 24 भाग
ड्रैगन रक्त 2 भाग
3.लेड आक्साइड (भूरा) 60 भाग
चारकोल 38 भाग
पुलर मिट्टी 1 भाग
अल्यूमीनियम 1 भाग
4.अल्यूमीनियम 75 भाग
चारकोल 20 भाग
ड्रैगन रक्त 5 भाग
5.लिकोपोडियम 90 भाग
साउडन रेड 10 भाग
6.काला मैंगनीज डाईआक्साइड 85 प्रतिशत भार
ग्रेफाइट (चूर्ण) 14.75 प्रतिशत भार
अल्यूमीनियम लाइनिंग पाउडर 0.25 प्रतिशत भार
7.प्रतिदीप्त-ऐंथ्रासीन, बारीक पिसा चूर्ण

बहुरंगी जमा पर अंगुलि छाप के फोटो साधारण पाउडर से तैयार नहीं होते। ऐसी स्थिति में ऐंथ्रासीन पाउडर से उस पर छाप का धूल जाता है और अंधेरे में रोशनी से पाउडर के प्रतिदी गुणों के कारण फोटो के लिए जा सकते हैं। (नि. सिं.)

 

 

DsGuruJi HomepageClick Here

Leave a Comment