करेंट अफेयर्स घटनाक्रम Daily Current Affairs 7 मई 2018

भारत बनी सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था

  • हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले दशक में भारत विश्व में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं की सूची में शीर्ष पर है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक 7.9% वार्षिक विकास दर के साथ भारत चीन और अमेरिका से आगे रहेगा।
  • शोधकर्ताओं ने भारत को कॉम्प्लेक्सिटी ऑप्पोरचुनिटी इंडेक्स पर भी सर्वश्रेष्ठ पाया, जो नए जटिल उत्पादों को बनाने के लिए मौजूदा जानकारियों को फिर से उपयोग करने की क्षमता को मापता है।

नासा ने मंगल ग्रह के भूकंपों का अध्ययन करने के ‘इनसाइट अंतरिक्ष यान’ लॉन्च किया

  • नासा ने मंगल ग्रह के गहरे आंतरिक भाग का अध्ययन करने के लिए बनाये गए अपने नवीनतम मंगल लैंडर, इनसाइट को लांच किया।
  • इसका लक्ष्य मंगल ग्रह पर आंतरिक स्थितियों के मानव ज्ञान का विस्तार करना, वहां मानव खोजकर्ताओं को भेजने के प्रयासों के बारे में सूचित करना और अरबों साल पहले पृथ्वी जैसे चट्टानी ग्रहों के गठन के बारे में पता लगाना है।
  • इनसाइट 2012 में क्यूरोसिटी रोवर के बाद मंगल ग्रह पर उतरने वाला नासा का पहला अंतरिक्ष यान होगा।

प्रसिद्ध मराठी गायक अरुण दाते का निधन

  • अनुभवी मराठी गायक अरुण दाते, जिन्हें उनके लोकप्रिय गीत शुक्त्रारा के लिए जाना जाता है, का निधन हो गया।
  • गैर-फिल्म ‘भावगीत’ (गीतकार कविता) गीतों के लिए प्रसिद्ध दाते, शुक्त्रारा और या जन्मवार जैसे कई गाने गाये, जो लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हुई।
  • उन्होंने 50 वर्षों से अधिक समय के लिए मराठी संगीत उद्योग में योगदान दिया।
  • दाते राज्य सरकार के ‘गजानवराव वातव पुरस्कार’ के पहले प्राप्तकर्ता थे।

नीति आयोग और आईबीएम: फसल उपज पूर्वानुमान हेतु समझौता

नीति आयोग ने महत्वाकांक्षी जिलों में किसानों को वास्तविक समय सलाह प्रदान करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का उपयोग करके फसल उपज पूर्वानुमान मॉडल विकसित करने वाली परियोजना पर हस्ताक्षर किए।

  • इसका उद्देश्य फसल उत्पादन और मिट्टी की उत्पादकता बढ़ाने, कृषि इनपुट को नियंत्रित करने तथा समग्र रूप से किसानों की आय बढ़ाने के लिए मिलकर काम करना है ताकि किसानों को पहले से ही जानकारी देने के लिए तकनीक का इस्तेमाल किया जा सके।
  • इस परियोजना का पहला चरण महाराष्ट्र, राजस्थान, असम, मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के राज्यों में 10 महत्वाकांक्षी जिलों के लिए विकासशील मॉडल पर केंद्रित होगा।
  • यह परियोजना जलवायु-जागरूक संज्ञानात्मक खेती तकनीकों को उपलब्ध कराएगी।
  • यह परियोजना फसल निगरानी की प्रणाली, उन्नत एआई नवाचारों के आधार पर कीट और बीमारी के प्रकोप पर प्रारंभिक चेतावनी की भी पहचान करेगी।
  • इसमें बेहतर कृषि प्रबंधन के माध्यम से फसल उपज और लागत बचत में सुधार के साथ आईटी और मोबाइल अनुप्रयोगों से मौसमी सलाह, मौसम पूर्वानुमान जानकारी से जुडी मोनिटरिंग शामिल है।

सरकार ने जल डेटा रखने के लिए शुरू किया NWIC

  • सरकार ने जल संसाधन की व्यापक जानकारी रखने के लिए एक केंद्रीय निकाय – राष्ट्रीय जल सूचना विज्ञान केंद्र की स्थापना की।
  • NWIC भारत में जल संसाधनों पर नवीनतम जानकारी के लिए एक एकल विंडो स्रोत होगा।
  • जलविज्ञान की चरम सीमाओं पर पानी की आपातकालीन प्रतिक्रिया से जूझ रहे केंद्रीय और राज्य संगठनों को तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए NWIC राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय शोध संस्थानों के साथ सहयोग करेगा।

नमामि गंगे कार्यक्रम को सुदढ़ बनाने के लिए जीआईएस प्रोद्यौगिकी

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) ने 04 मई 2018 को भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) प्रौद्योगिकी का उपयोग करके गंगा कायाकल्प कार्य को पूरा करने के उद्देश्य से 1767 में गठित भारत के सबसे पुराने विभाग, भारतीय सर्वेक्षण विभाग को अपने साथ जोड़ा है

  • इस परियोजना को कार्यकारी समिति की बैठक में मंजूर किया गया था और इसकी अनुमानित लागत 86.84 करोड़ रूपये है।
  • एनएमसीजी का लक्ष्य राष्ट्रीय/राज्य/स्थानीय स्तर पर योजना निर्माण तथा इसका कार्यान्वयन है।
  • इस परियोजना में डिजीटल इलिवेशन मॉडल (डीईएम) प्रौद्योगिकी का उपयोग शामिल है जो सटीक आंकड़ा संग्रह सुनिश्चित करता है।
  • यह नदी-बेसिन प्रबंधन योजना का एक महत्त्वपूर्ण घटक है. डीईएम प्रौद्योगिकी पूरे क्षेत्र की स्थलाकृति की पहचान करता है।
  • इससे नीति निर्माता आसानी से उपलब्ध आंकड़ों का विश्लेषण कर सकते हैं. इस प्रकार यह नीति निर्माण प्रक्रिया को सहायता प्रदान करता है।
  • इस तकनीक से महत्त्वपूर्ण स्थानों की पहचान की जा सकती है. जीआईएस प्रोद्योगिकी का उपयोग विकेंद्रीकरण भी सुनिश्चित करेगा।
  • संग्रह किये गए आंकड़ों तथा सरकार द्वारा उठाए गये कदमों की जानकारी पोर्टल और मोबाईल एप के माध्यम से स्थानीय लोगों के साथ साझा की जा सकती है. इस प्रकार यह आपसी संवाद सुलभ करेगा तथा एक पारदर्शी मंच साबित होगा।
  • प्रभावी निर्वहन प्रबंधन के लिए औद्योगिक, व्यावसायिक और सभी अन्य प्रकार की संस्थाओं से निकलने वाले सीवेज की मैपिंग की जाएगी।
  • जीआईएस प्रोद्यौगिकी से नदी के दोनों किनारों पर प्रस्तावित उच्च क्षमता वाली संरक्षित क्षेत्रों के नियमन में सहायता मिलेगी।

लेबनान में हुआ पहला संसदीय चुनाव

  • लेबनान में मतदान शुरू हो गया है, जहां मतदाता 9 साल में पहली बार अपनी संसद को चुनने जा रहे हैं।
  • देश में अंतिम बार चुनाव 2009 में आयोजित किए गए थे, जो 4 साल की अवधि के लिए माना गया था। लेकिन संसद ने पड़ोसी सीरिया में अस्थिरता के कारण दो बार इसकी अवधि बढ़ा दी।
  • लेबनान में कर्ज और जीडीपी का अनुपात दुनिया के सबसे उच्चतम में से एक है और आई.एम.एफ. ने चेतावनी दी है कि इसका राजकोषीय प्रक्षेपण अनिश्चित है।

चीन ने लांच किया ‘APSTAR – 6C’ संचार उपग्रह

  • चीन ने दक्षिण-पश्चिम शिचांग सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से एक नया संचार उपग्रह “APSTAR-6C” को लॉन्च किया।
  • उपग्रह एशिया-प्रशांत क्षेत्र के ग्राहकों को टी.वी. ट्रांसमिशन, संचार, इंटरनेट और मल्टीमीडिया की सेवाएं प्रदान करेगा।
  • उपग्रह और रॉकेट दोनों चीन एयरोस्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी कारपोरेशन निगम द्वारा विकसित किए गए थे।

एम एच आर डी: उच्च शिक्षा फैकल्टी ऑनलाइन पेशेवर विकास कार्यक्रम

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एमओओसी प्लेटफॉर्म ‘स्‍वयं’ का उपयोग करते हुए 1.5 मिलियन उच्च शिक्षा फैकल्टी के ऑनलाइन पेशेवर विकास कार्यक्रम प्रारंभ किया है. पहले चरण में 75 अध्‍ययन-विषय विशेष राष्‍ट्रीय संसाधन केन्‍द्र चिन्ह्ति किये गये है।

  • विभिन्‍न संस्‍थान जैसे केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालयों में शिक्षण और प्रशिक्षण पर बने पंडित मदनमोहन मालवीय राष्‍ट्रीय मिशन (पीएमएमएमएनएमटीटी), आईआईएससी, आईयूसीएए, आईआईटी, आईआईएसईआर, एनआईटी, राज्‍य के विश्‍वविद्यालय, विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग के मानव संसाधन विकास केन्‍द्र (एचआरडीसी), राष्‍ट्रीय तकनीकी प्रशिक्षण संस्‍थान (एनआईटीटीटीआर), आईआईआईटी और मुक्‍त विश्‍वविद्यालयों को राष्‍ट्रीय संसाधन केन्‍द्र (एनआरसी) के रूप में अधिसूचित किया गया है।
  • इन संसाधन केन्‍द्रों में एनआरसी, समाज विज्ञान, विज्ञान, इंजीनियरिंग और टेक्‍नोलॉजी, डिजाइन और मैन्‍यूफैक्‍चरिंग, कला, भाषा, शिक्षण, वाणिज्‍य, प्रबंधन, शिक्षा नियोजन और प्रशासन, लोक नीति, नेतृत्‍व और शासन संचालन, पुस्‍तकालय और सूचना विज्ञान, खगोल विज्ञान तथा खगोल भौतिकी, निर्धारण और मूल्‍यांकन, अध्‍यापन कला और शोध विधि, नैनो साइंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्‍स जैसे विभिन्‍न अध्‍ययन-विषय हैं।
  • फैकल्टी को इस कार्यक्रम से लाभ होगा क्‍योंकि कार्यक्रम अत्‍यधिक लचीला है और अपने स्‍थान और समय के अनुसार पूरा किया जा सकता है।
  • राष्‍ट्रीय संसाधन केन्‍द्र आईसीटी तथा स्‍वयं के ऑनलाइन टेक्‍नोलॉजी प्‍लेटफॉर्म का लाभ उठाते हुए बड़े पैमाने पर फैकल्‍टी के पेशेवर विकास का कार्य करेंगे. स्वयं एक ऑनलाईन लर्निग पोर्टल है. जो विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क है. इसलिए स्वयं पोर्टल पर उपलब्ध कोर्स भी नि:शुल्क है।
  • स्वयं पोर्टल को शिक्षा नीति के तीन आधारभूत सिद्धातों – पहुँच, निष्पक्षता तथा गुणवता को प्राप्त करने के उद्देश्य से बनाया गया है।
  • इस पर 9वीं कक्षा से लेकर स्नातकोत्तर तक के कोर्स उपलब्ध है।

आई.ए.एफ. में फिर से शामिल हुआ डकोटा विमान

  • एक शानदार सेवा रिकॉर्ड के बाद बेड़े से बाहर होने के 4 दशक बाद एक बहाल डकोटा विमान भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ।
  • लोकप्रिय रूप से गोनी बर्ड के रूप में जाना जाने वाला डकोटा भारतीय वायुसेना में शामिल पहला प्रमुख परिवहन विमान था।
  • नए नाम परशुराम के साथ बहाल डकोटा हिंडन वायु सेना स्टेशन पर विकसित किये गए टाइगर मॉथ और हॉवर्ड में से प्रत्येक के श्रेष्ठ उड़ानों में शामिल होगा।
error: Content is protected !!
/* ]]> */