Computer Courses

कम्प्यूटर की भाषाएं

कम्प्यूटर भाषा या प्रोग्रामिंग भाषा, कंप्यूटर प्रोग्रामर द्वारा कंप्यूटर के साथ संवाद करने के लिए इस्तेमाल एक एक कोड है। कम्प्यूटर भाषा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के बीच संचार का एक प्रवाह स्थापित करती है। कम्प्यूटर भाषा एक कंप्यूटर उपयोगकर्ता को कंप्यूटर डेटा को प्रोसेस करने के लिए आवश्यक कमांड को पहचानने में मदद करती है। इन भाषाओं को निम्नलिखित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है

  • 1. मशीन भाषा
  • 2. असेम्बली भाषा
  • 3. उच्च स्तरीय भाषा

मशीन भाषा

मशीन भाषा या मशीन कोड मूल भाषा है जिसे कंप्यूटर के सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट या CPU द्वारा समझा जाता है। कंप्यूटर भाषा के इस प्रकार को समझना आसान नहीं है क्योंकि यह कमांड देने के लिये एक बाईनरी प्रणाली, (केवल एक और शून्य से मिलकर बनी संख्या) का उपयोग करती है।

असेंबली भाषा

असेंबली भाषा कोड का एक सेट है जिसे सीधे कंप्यूटर के प्रोसेसर पर चला सकते हैं। यह भाषा ऑपरेटिंग सिस्टम के लेखन और डेस्कटॉप अनुप्रयोगों को मेंटेन रखने में सबसे उपयुक्त है। असेंबली भाषा के साथ, एक प्रोग्रामर के लिए कमांड को परिभाषित करना आसान है। यह समझने और उपयोग करने में मशीन भाषा की तुलना में आसान है।

उच्च स्तरीय भाषा

उच्च स्तरीय भाषाएं उपयोगकर्ता के अनुकूल भाषाएं है जो शब्दों और प्रतीकों की शब्दावली में अंग्रेजी के समान हैं। ये सीखने के लिए आसान हैं और इन्हें लिखने के लिए कम समय की आवश्यकता होती है।

वे ‘मशीन’ आधारित ना होकर समस्या उन्मुख भाषा है।

एक उच्च स्तरीय भाषा में लिखे प्रोग्राम का कई मशीन भाषाओं में अनुवाद किया जा सकता है और एक उचित ट्रांसलेटर की उपस्थिति में इन्हें किसी भी कंप्यूटर पर चला सकते हैं।

फोरट्रान II के बाद से कई उच्च स्तरीय भाषाएं आई है (और बहुत सी गायब भी हो गई है), जिनमें से सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली भाषाएं निम्न है:

  • कोबोल: व्यावसायिक अनुप्रयोगों के लिये
  • फोरट्रान: इंजीनियरिंग और वैज्ञानिक अनुप्रयोगों के लिये
  • पास्कल: सामान्य उपयोग और एक शिक्षण उपकरण के रूप में
  • C और C ++: सामान्य प्रयोजन के लिये – वर्तमान में सबसे लोकप्रिय
  • PROLOG: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिये
  • जावा: – वेब सामग्री और तेजी लोकप्रिय से हो रही गेमिंग के लिए

कंपाइलर और इंटरप्रिटर

यह प्रोग्राम है जो एक उच्च स्तरीय भाषा में लिखे निर्देशों को कार्यांवित करते हैं। एक उच्च स्तरीय भाषा में लिखे प्रोग्राम को रन करने के दो तरीके हैं। सबसे आम है- प्रोग्राम को कम्पाइल करना जबकि; अन्य विधि में एक इंटरप्रिटर के माध्यम से प्रोग्राम को रन करना है।

1.कम्पाइलर

– एक कम्पाइलर एक विशेष प्रोग्राम है जो एक विशेष प्रोग्रामिंग भाषा, अर्थात सोर्स कोड में लिखित स्टेटमेंट को प्रोसेस करता है और उन्हें मशीन भाषा या “मशीन कोड”, जिसे एक कंप्यूटर का प्रोसेसर का उपयोग करता है, में परिवर्तित करता है।

– कम्पाइलर उच्च स्तरीय की भाषा के प्रोग्रामों का सीधे मशीन भाषा में अनुवाद करता है। इस प्रक्रिया को कम्पाइलेशन कहा जाता है।

2. इंटरप्रिटर

– एक इंटरप्रिटर उच्च स्तरीय निर्देशों का एक मध्यवर्ती रूप में अनुवाद करता है, जिन्हें बाद में यह कार्यान्वित करता है। कम्पाइल किये हुए प्रोग्राम आम तौर पर इंटरप्रिट किये हुए प्रोग्राम की तुलना में तेजी से रन होते हैं। एक तथापि, इंटरप्रिटर का लाभ यह है कि इसे कम्पाइलिंग चरण के दौरान जो मशीन निर्देश उत्पन्न होते हैं, उन के माध्यम से जाने की जरूरत नहीं होती है। यदि प्रोग्राम लंबा हो तो यह प्रक्रिया समय लेने वाली हो सकती है।

DSGuruJi - PDF Books Notes
Don`t copy text!