लाउडस्पीकर कैसे काम करता है?

लाउडस्पीकर एक ऐसी युक्ति है जो विद्युत् संकेतों को ध्वनि तरंगों में बदल देता है| एक सामान्य लाउडस्पीकर में एक घूर्णन कुंडली स्पीकर होता है| एक तार की कुंडली को बड़े कागज के शंकु के साथ जोड़ दिया जाता है| और स्थायी चुम्बक के ध्रुवों के बीच में रख दिया जाता है|  जब इस कुंडली में से विद्युत धारा गुजरती है तो चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न होता है जिससे शंकु में कम्पन्न होने लगते हैं इन्हीं कम्पनों से ध्वनि उत्पन्न होती है|

error: Content is protected !!