General Science

बरसात के दिनों में आकाश में इंद्र धनुष का निर्माण कैसे होता है?

प्रकाश जब एक माध्यम से दूसरे माध्यम में प्रवेश करता है तो यह अपने निश्चित पथ से थोड़ा मुड़ जाता है| प्रकाश का यह गुण अपवर्तन कहलाता है। अपवर्तन के समय प्रकाश में उपस्थित अलग-अलग रंग अपनी-अपनी प्रवृति के हिसाब से कम ज्यादा मुड़ते है| अतः प्रकाश अपने सात रंगों में विभाजित हो जाता है। हवा, पानी, काँच आदि अलग-अलग माध्यम है , इस कारण प्रकाश के एक माध्यम से दूसरे माध्यम में प्रवेश करते समय अपवर्तन की क्रिया होती है। बरसात के दिनों में बादलों से टपकती बूंदों से सूर्य का प्रकाश टकरा कर आकाश में भी ठीक इसी तरह इन्द्रधनुष का निर्माण कर देता है।

READ  जब कोई व्यक्ति किसी चलती हुई गाड़ी से कूदता है तो वह मुँह के बल आगे की ओर क्यों गिरता है?
DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment