पारे की छोटी बूंदें गोल तथा बड़ी बूँदें चपटे होती हैं। क्यों?

यदि बूँदें छोटी हैं तो गुरुत्वीय बल का मान नगण्य होता है अतः पृष्ठ-तनाव के साथ-साथ गुरुत्वीय बल भी कार्य करता है। गुरुत्वीय बल बूँद के गुरुत्व केंद्र को यथासंभव निम्नतम स्थिति में लाना चाहता है। अतः बड़ी बूँदें कुछ चपटी हो जाती है।

error: Content is protected !!