General Science

गर्मियों के दिनों में नाक से अक्सर खून क्यों बहता है?

नाक के अन्दर की सतह पर दोनों नाक छिद्रों के बीच की दीवार एक पतली और नम श्लेष्मा (म्यूकस मेम्ब्रेन) से ढ़की रहती है। इस सतह में रक्त ले जाने के लिये कई पतली-पतली रक्त शिरायें होती है। गर्मी के दिनों में वातावरण जब बहुत शुष्क होता है तो इस झिल्ली के सूखने के कारण जोर से छींकने या हल्के झटके लगने पर शिरायें टूट जाती है और नाक से खून बहने लगता है।

READ  जब जलती हुई मोमबत्ती को हवा के एक सीमित दायरे में बंद कर दिया जाता है तो यह क्यों बुझ जाती है?
DSGuruJi - PDF Books Notes

Leave a Comment