क्या कारण है कि चूने के पानी से भरी टेस्ट ट्यूब में फूँक मारने पर वह दुधिया रंग का हो जाता है किन्तु और फूँके मारने पर यह दुधिया रंग समाप्त हो जाता है?

चूने के पानी से भरी टेस्ट ट्यूब में फूँक मारने से चूने के पानी का रंग दुधिया हो जाता है क्योंकि फूँक के साथ निकली कार्बनडाई आक्साइड गैस चूने के पानी के साथ क्रिया करके यह अविलेय केल्सियम कार्बोनेट बनाती है। इसी केल्सियम कार्बोनेट के कारण चूने के पानी जा रंग दुधिया हो जाता है। परन्तु अधिक मात्रा में CO2 गैस प्रवाहित करने पर यह जल में विलेयशील होकर केल्सियम बाई कार्बोनेट बनाता है तथा दुधिया रंग समाप्त हो जाता है।

error: Content is protected !!