उपवर्ग मेटाथीरिया Sub Class Metatheria

  • इस उपवर्ग के जन्तु न तो अण्डे देते हैं और न ही पूर्ण विकसित बच्चे को जन्म देते हैं अर्थात् ये अपरिपक्व बच्चे को जन्म देते हैं। बाद में इस बच्चे का विकास माता के उदर में स्थित विशेष थैली में होता है जिसेमार्सूपियल थैलीकहते हैं।
  • इस उपवर्ग के जन्तुओं में स्तन ग्रन्थियाँ पायी जाती हैं लेकिन इसके चुचुक (Teats) मार्सूपियल थैली में खुलते हैं और यहीं से अविकसित बच्चे का पोषण होता है।
  • इनमें बाह्य कर्ण (Externalear) उपस्थित होता है।
  • इनके शरीर का तापमान हमेशा समान रहता है।
  • ये एकदंती (Monophyodent) होते हैं।

उदाहरण- कंगारू (Kangaroo), डाइडेल्फिस आदि।

DsGuruJi HomepageClick Here

Leave a Comment